किसान क्रेडिट कार्ड

किसान क्रेडिट कार्ड (kkc)2020 कैसे बनवाएं व ऑनलाइन /ऑफ़लाइन अप्लाई किस तरह करें- kisan credit card yojana online aur offline kaise baney athwa kaise apply kare

किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) kisan credit card yojana किया है यह जानते है पहले ?

किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) kisan credit card yojana योजना भारत सरकार द्वारा एक पहल है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि देश के किसानों को सस्ती दर पर लोन उपलब्ध हो। यह योजना अगस्त 1998 में लोन और कृषि कल्याण पर इनपुट के लिए गठित एक विशेष समिति की सिफारिशों के आधार पर शुरू की गई थी। किसान क्रेडिट कार्ड लोन किसानों को खेती, फसल, खेत के रख–रखाव, आदि की लागत को कवर करने के लिए टर्म लोन प्रदान करता है, आइए जानें किसान क्रेडिट कार्ड लोन कैसे काम करता है और इसके क्या लाभ है।

किसान क्रेडिट कार्ड (kkc)1998 में शुरू हुई थी योजना 

किसान क्रेडिट कार्ड योजना 1998 में शुरू हुई थी. यह किसानों की खेती से संबंधित खर्चों को पूरा करने के लिए जारी किया गया था. किसान इस कार्ड के जरिए प्रति सीजन तीन लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं. लोन की किस्त को चुकाने पर बैंक की तरफ से कई तरह के फायदे भी मिलते हैं. हाल ही में आरबीआई ने बैंकों से केसीसी योजना पर दो फीसदी ब्याज को मुक्त करने और भुगतान करने पर तीन फीसदी की राहत देने की घोषणा को आगे बढ़ाने को कहा था. यह घोषणा उन किसानों के लिए थी जिनको 1 मार्च 2020 से 31 मई 2020 के बीच भुगतान करना था.

किसान क्रेडिट कार्ड योजना का उद्देश्य

किसान क्रेडिट कार्ड योजना किसानों को उनकी ऋण की आवश्य कताओं (कृषि संबंधी खर्चों) की पूर्ति के लिए पर्याप्तर एवं समय पर ऋण की सुविधा प्रदान करना साथ ही आकस्मि‍क खर्चों के अलावा सहायक कार्यकलापों से संबंधित खर्चों की पूर्ति करना। यह ऋण सुविधा एक सरलीकृत कार्यविधि के माध्यरम से यथा आवश्याकता आधार पर प्रदान की जाती है

यह पाया गया कि किसानों को अपनी खेती की जरूरतों के लिए गैर–संस्थागत लोन स्रोतों पर बहुत अधिक निर्भर रहना पड़ा जैसे कि बीज, कीटनाशक, उर्वरक, आदि की खरीद। बैंकों या अन्य फाईनेंस संस्थान में लंबी और कठिन प्रक्रियाएं थीं जो किसानों को उनके पास जाने के लिए रोकती थीं और अनावश्यक देरी का भी कारण बनी।

हालांकि, अनौपचारिक या असंगठित लोन बाज़ार ने किसानों का शोषण किया। उनकी अत्यधिक ब्याज दर के कारण किसान समुदाय लगातार कर्ज में डूबता गया। इसलिए, किसान क्रेडिट कार्ड योजना किसानों को पर्याप्त, समय पर और लागत प्रभावी धन की उपलब्धता की गारंटी देने के लिए शुरू की गई थी।

इस योजना के प्राथमिक उद्देश्य इस प्रकार हैं:

  • फसल की खेती, बागवानी, पशुपालन, मछली पालन, आदि के लिए शार्ट-टर्म लोन 
  • किसानों के लिए आसान मार्केटिंग लोन
  • कृषि वर्किंग कैपिटल
  • फसल कटाई के बाद के खर्च
  • औजारों और उपकरणों की खरीद

किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन आवेदन पत्र – जरूरी बातें

इस स्कीम का फायदा वे किसान भी उठा सकते हैं, जो बटाई पर खेती करते हैं। अब सरकार इसकी आवेदन प्रक्रिया को भी सरल करने जा रही है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने जानकारी देते हुए कहा है कि अब देश भर के किसान अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल घर की जरूरतों को पूरा करने के लिए कर सकते हैं। आम तौर पर किसान क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल फसल को तैयार होने वाले खर्चों को पूरा करने के लिए किया जाता है। लेकिन कुल राशि का 10 प्रति किसान घर में भी कर सकते हैं।

केसी सी ऋण कार्ड प्राप्त करने के लिए लाभार्थी किसान के पास क्याक्या दस्तावेज़ (Documents Required to Apply Online Form for Kisan Credit Card – KCC) होने चाहिए इसकी सूची नीचे दी गई है:

·         बैंक में बचत खाता जो आधार नंबर से जुड़ा होना चाहिए

·         आधार कार्ड

·         किसान के ऊपर पहले से ही किसी अन्य बैंक का कर्ज नहीं होना चाहिए

·         पासपोर्ट साइज़ फोटो

·         रिहायसी प्रमाण पत्र

न्यूनतम आयु – 18 वर्ष।अधिकतम आयु – 75 वर्ष

·     यदि उधारकर्ता एक वरिष्ठ नागरिक (60 वर्ष से अधिक आयु) है, तो सहउधारकर्ता अनिवार्य है जहां सहउधारकर्ता एक कानूनी उत्तराधिकारी होना चाहिए।

  • सभी किसान – व्यक्ति / संयुक्त कृषक, मालिक
  • किरायेदार किसान, मौखिक पट्टेदार, और बटाईदार आदि
  • किरायेदार किसानों सहित SHG या संयुक्त देयता समूह

किसान क्रेडिट कार्ड लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज़

आवेदन भरने के समय निम्नलिखित दस्तावेजों को जमा करना होगा:

  • भरा हुआ आवेदन फॉर्म 
  • पहचान प्रमाण- मतदाता पहचान पत्र / पैन कार्ड
  • / पासपोर्ट / आधार कार्ड / ड्राइविंग लाइसेंस, आदि
  • पता प्रमाण- मतदाता पहचान पत्र / पासपोर्ट /आधार कार्ड
  •  / ड्राइविंग लाइसेंस, आदि
  • ज़मीन के दस्तावेज

किसान क्रेडिट कार्ड 2020 कैसे बनवाएं ऑनलाइन /ऑफ़लाइन अप्लाई करें / दस्तावेजों की आवश्यकता

केंद्र सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन अप्लाई  आम बजट में किसानों के कल्याण के लिए 16 सूत्रीय एक्शन प्लान को शुरू करने का फैसला किया है। जिससे अब मोदी सरकार पीएम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़े सभी किसान लाभार्थियों (PM Kisan Samman Nidhi Yojana Beneficiaries) को किसान क्रेडिट कार्ड (Kisan Credit Card – KCC) की सुविधा उपलब्ध कराएगी। किसान क्रेडिट कार्ड योजना 2020 (Kisan Credit Card Apply Online – KCC) के तहत किसानों को बिना किसी गारंटी के 3 लाख रुपये तक का कृषि ऋण आसानी से मिल सकेगा।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना  के लाभार्थी किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत कार्ड (KCC Application Form In Pdf Format) बनवाने के लिए आवेदन पत्र आधिकारिक वेबसाइट से पीडीएफ़ फ़ारमैट में आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना 2020-21 के तहत ऑनलाइन अप्लाई फॉर्म (KCC Application Form PDF) किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थियों (PM-KISAN Beneficiaries) के लिए 10 फरवरी से 25 फरवरी 2020 तक आधिकारिक पोर्टल पर उपलब्ध रहेंगे। यही नहीं दिये जाने वाले कर्ज पर ब्याज भी सिर्फ 4 फीसदी का ही होगा। सरकार का मानना है कि इससे किसानों की साहूकारों पर निर्भरता घटेगी और उन्हें खेती और कृषि से संबन्धित अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए आसानी से पैसा मिल सकेगा।

अभी तक इस स्कीम से 9.5 करोड़ किसान जुड़ चुके हैं जिसके तहत पहले राउंड में इन किसानों को क्रेडिट कार्ड दिए जाएंगे। इस तरह शुरुआत में करीब 10 करोड़ किसानों को क्रेडिट कार्ड स्कीम से जोड़ा जाएगा।

ऑफ़लाइन अप्लाई करें

यदि आप ऑफ़लाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो आपको निकटतम बैंक की शाखा में जाना चाहिए और किसान क्रेडिट कार्ड लोन के लिए आवेदन करना चाहिए। फॉर्म में उल्लिखित सभी जानकारी के दस्तावेज प्रमाण प्रदान करना अनिवार्य है, इसलिए अपने साथ आवश्यक दस्तावेज ले जाना न भूलें।

यदि आप फॉर्म में अपने मोबाइल नंबर की जानकारी देते हैं, तो आपके लोन स्वीकृत होने तक एक–एक करके स्टेटस अपडेट मिलेंगे।

किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन अप्लाई कैसे करें

किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन अप्लाई  प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थियों को किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाना है और किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन अप्लाई आवेदन (Kisan Credit Card Online Registration Form – KCC) कैसे करना है इससे संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए स्टेप्स को फॉलो करना होगा:

·         लाभार्थी किसान भाइयों को सबसे पहले pmkisan.gov.in पीएम किसान पोर्टल पर जाना होगा।

·         किसान पोर्टल के होमपेज पर मुख्य मेन्यू में “Download KCC Form” पर क्लिक करना है।

किसान क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन अप्लाई किसान क्रेडिट कार्ड लोन के लिए आवेदन करना बहुत कठिन काम नहीं है। बैंकों ने ऑनलाइन और ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया के लिए अनुमति देने का प्रावधान किया है। यदि आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए तरीकें का पालन करें:

  • बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर किसान क्रेडिट कार्ड सेक्शन पर जाएँ
  • “Apply Now” बटन पर क्लिक करें
  • अपनी जानकारी भरें और किसी भी गलती के लिए इसे जांचें
  • ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें
  • आवेदन प्रोसेसिंग समय लगभग 3 से 4 दिनों का है
  • यदि स्वीकार किया गया है, तो एक कार्यकारी आपके साथ आवश्यक दस्तावेजों के बारे में समझाते हुए संपर्क करेगा

योजना का लाभ

योजना के लाभ लेने के लिए किसानों को ज्यादा भाग दौर की जरूरत नहीं है | वे अपने इलाके में स्थित बैंक में जाएं और आवेदन कर दें | किसानों को एक पासबुक दी जाती है | इसमें पासबुक पर किसानों का नाम और पता, भूमि जोत का विवरण, उधार सीमा और वैधता अवधि, एक पासपोर्ट आकार का फोटो लगाया जाता है, जो पहचान पत्र का भी काम करता है | कहते को उपयोग करते समय किसान को अपना कार्ड – सह – पासबुक दिखाना होता है |

ऋण सीमा के अनुरूप जो किसान 10 हजार रूपये तक ऋण लेते हैं उन्हें मर्जिंग मनी नहीं दी जाती है, लेकिन जो किसान 25 हजार रुपये से अधिक ऋण लेते हैं उन्हें 15 से 25 फीसदी तक मर्जिंग मनी का प्रवधान किया गया है |

इस योजना के तहत किसान खरीफ एवं रबी सीजन में 50 हजार रूपये तक का ऋण ले सकता है | वास्तव में अगस्त 1988 में शुरू हुई किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) योजना एक येसे अभिनव ऋण वितरण तंत्र के रूप में उभरी है जिससे किसानों की उत्पादन ऋण संबंधित आवश्यकताएं सही समय पर और बिना किसी कठनाई के पुरी होती हैं | पिछले 15 वर्षों के दौरान निति निर्माताओं, कार्यान्वयनकर्ता बैंकों और किसानों को इस योजना के कार्यान्वयन से संबंधित अनेक बधावों का सामना भी करना पड़ा, लेकिन हर बाधा के लिए मुक्कमल रास्ता ढूंढा गया |

भारत सरकार द्वारा कार्यदल की सिफारिशें स्वीकार कर लेने के बाद नावार्ड द्वारा सहकारी बैंकों, क्षेत्रीय बैंकों को और भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा वाणिज्य बैंकों को किसान क्रेडिट कार्ड पर संसोधित परिचालनात्मक दिशानिर्देश वर्ष 2012 को जारी किए गए हैं | इसके तहत पेपर कार्ड (पासबुक) प्लास्टिक कार्ड हो गया है |

किसान क्रेडिट कार्ड(kkc) लोन की विशेषताएं

  • सभी कृषि किसान किसान क्रेडिट कार्ड योजना से लाभान्वित होने के योग्य हैं। इसमें ऐसे किसान शामिल हैं, जिनके पास खुद की ज़मीन, किरायेदार किसान, बटाईदार और पट्टेदार हैं
  • राष्ट्रीय फसल बीमा योजना में KCC के लिए योग्य फसलें शामिल हैं। यह योजना किसानों को खराब फसल के मौसम में कुछ सुरक्षा प्रदान करती है
  • इस योजना का सबसे बड़ा लाभ क्रेडिट प्रक्रिया की सादगी है। यह किसानों के लिए धन की त्वरित और समय पर उपलब्धता में तब्दील होता है
  • इसमें न्यूनतम कागजी कार्यवाही है
  • किसान क्रेडिट कार्ड लोन के पुनर्भुगतान अवधि बहुत सुविधाजनक है। प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल खराब होने की स्थिति में पुनर्भुगतान अवधि बढ़ाने की भी संभावना है। किसानों को समय पर और शीघ्र भुगतान का विकल्प भी दिया जा सकता है
  • लोन पर लागू ब्याज दर बाज़ार में उपलब्ध अन्य ब्याज दर से कम है 
  • यह किसान क्रेडिट कार्ड के प्राप्तकर्ता के लिए बीमा कवरेज (व्यक्तिगत दुर्घटना और संपत्ति) प्रदान करता है
  • यह किसान की आवश्यकताओं के अनुसार पैसा निकालने की सुविधा प्रदान करता है

इस योजना के तहत किसानों को प्रदान किया गया क्रेडिट कार्ड प्लास्टिक मनी के रूप में उपयोग करने योग्य है और नकद पैसा निकालने के लिए भी। किसानों को एक पासबुक भी मिलती है जिसमें सभी जानकारी जैसे नाम, पता, भूमि के ब्योरे की जानकारी, क्रेडिट सीमा, वैधता आदि शामिल हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड(kkc) लोन किसके लिए है?

किसान क्रेडिट कार्ड योजना ने किसानों को उनके उत्पादन–संबंधी खर्चों को पूरा करने में मदद करने की दिशा में काम किया। हालाँकि, बाद में इसका दायरा बढ़ गया और अब किसान इस योजना का उपयोग अन्य संबद्ध खर्चों के लिए भी कर सकते हैं। उसमे शामिल हैं:

  • फसल उत्पादन से संबंधित खर्चें
  • दिन–प्रतिदिन की गतिविधियों के लिए फंड (वर्किंग कैपिटल)
  • खेती की संपत्ति और अन्य संबद्ध गतिविधियों जैसे डेयरी जानवरों आदि के रखरखाव का खर्च
  • मार्केटिंग संबंधी खर्च

किसान क्रेडिट कार्ड लोन की मात्रा (क्वांटम)

लोन की मात्रा तय करते समय लोन संस्थानों द्वारा निम्नलिखित कारकों को ध्यान में रखा जाता है:

  • इनमें खेती की जाने वाली फसल, आकार या खेती का क्षेत्र, किसान की कमाई की क्षमता और पिछली क्रेडिट हिस्ट्री शामिल हैं
  • उदाहरण के लिए, SBI में, पहले वर्ष की शार्ट-टर्म लोन सीमा का निर्धारण फाईनेंस के पैमाने के साथ प्रस्तावित फसल पैटर्न के अनुसार की जाने वाली फसलों के आधार पर किया जाता है।
  • बाद के वर्षों के लिए, लोन सीमा एक निश्चित प्रतिशत से बढ़ जाती है

KCC लोन के लिए गारंटी या सिक्योरिटी

  • किसान क्रेडिट कार्ड लोन के लिए सिक्योरिटी सुरक्षा के बारे में दिशा–निर्देश RBI द्वारा तय किए जाते हैं
  • किसान क्रेडिट कार्ड योजना में भाग लेने वाले फाईनेंस संस्थानों को गारंटी या सिक्योरिटी के मामले में अपने नियम बनाने की अनुमति है, इसलिए ये नियम बैंक/ फाइनेंस संस्थान पर निर्भर हैं  
  • उदाहरण के लिए, SBI को 1 लाख रुपये तक के लोन के लिए किसी भी सिक्योरिटी जमा की आवश्यकता नहीं है
  • 50,000 रुपये तक के लोन के लिए बैंक ऑफ इंडिया को खड़ी फसलों की आवश्यकता होती है
  • उस सीमा से अधिक के लोन के लिए भूमि गिरवी के रूप में सिक्योरिटी की आवश्यकता होती है, आदि

किसान क्रेडिट कार्ड लोन ब्याज़ दर

  • किसान क्रेडिट कार्ड लोन ब्याज दर बैंक / फाईनेंस संस्थान के विवेक पर है
  • हालांकि RBI द्वारा इसकी निगरानी की जाती है और यह आमतौर पर बेस रेट के अनुरूप होता है
  • लोन पर ब्याज़ के अलावा, इस योजना में कुछ अन्य अतिरिक्त शुल्क भी शामिल हैं जिनमें प्रोसेसिंग शुल्क, बीमा प्रीमियम आदि शामिल हैं
  • कई मामलों में, लोन देने वाले संस्थान किसानों के हित के लिए इन शुल्कों को माफ कर देते हैं। उदाहरण के लिए, SBI 3 लाख रु. तक के लोन के लिए कोई प्रोसेसिंग शुल्क नहीं लेता है

किसना क्रेडिट कार्ड लोन भुगतान अवधि

किसान क्रेडिट कार्ड लोन का पुनर्भुगतान बैंक या लोन की पेशकश करने वाले बैंक/ फाईनेंस संस्थान द्वारा निर्धारित किया जाता है। यह फसल के बाद ही होता है।

  • शार्ट-टर्म लोन के लिए, वे आमतौर पर फसलों की प्रत्याशित कटाई और  मार्केटिंग अवधि को ध्यान में रखते हैं
  • लॉंग-टर्म लोन आम तौर पर लोन प्राप्त करने के पांच वर्षों के भीतर चुकाने होते हैं

किसान क्रेडिट कार्ड लोन देने वाले संस्थान

भारत में कई सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, सहकारी बैंकों और ग्रामीण बैंकों द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड की पेशकश की जाती है। उनमें से कुछ हैं:

  • भारतीय स्टेट बैंक (SBI)
  • बैंक ऑफ इंडिया (BOI)
  • भारतीय औद्योगिक विकास बैंक (IDBI)
  • नाबार्ड
  • नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया (NPCI)

नोट:

उपरोक्त ड) से झ) तक के दस्तालवेज केवल स्टोसरेज रसीद पर स्वीपकृत उप-सीमा के लिए ही लागू होंगे। यदि किसान के परिसर में स्टो र किए गए उत्पातद पर उत्पाजद विपणन सीमा का विस्तावर किया जाता है तो स्टो र किए गए उत्पाेद पर दृष्टिबंधक प्रभार को कवर करने के लिए दृष्टिबंधक विलेख (सीएचए-1) पर्याप्त होगा।

किसान क्रेडिट कार्ड के अलग – अलग नाम

  • इलाहाबाद बैंक – किसान क्रेडिट कार्ड
  • आन्ध्र बैंक – ए.बी. किसान ग्रीन कार्ड
  • बैंक ऑफ़ बडौदा – बी किसान क्रेडिट कार्ड
  • बैंक ऑफ़ इंडिया – किसान समाधान कार्ड
  • केनरा बैंक – किसान क्रेडिट कार्ड
  • कार्पोरेशन बैंक – किसान क्रेडिट कार्ड
  • देना बैंक – किसान गोल्ड क्रडिट कार्ड
  • ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कामर्स – ओरिएंटल ग्रीन कार्ड (ओ.जी.सी.)
  • पंजाब नेशनल बैंक – पी.एन.बी. कृषि कार्ड
  • स्टेट बैंक ऑफ़ हैदराबाद – किसान क्रेडिट कार्ड
  • स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया – किसान क्रेडिट कार्ड
  • सिंडिकेट बैंक – सिंडिकेट किसान क्रेडिट कार्ड
  • विजय बैंक – विजय किसान क्रेडिट कार्ड

किसान क्रेडिट कार्ड (kcc)हेल्पलाइन नंबर

किसी भी राज्य के किसान टोल फ्री नंबर यानी 1800-180-1551 पर किसान कॉल सेंटर पर कॉल कर सकते हैं और अपनी शंकाओं और समस्या को दूर कर सकते हैं।

ग्राहक सेवा केन्द्र तुरंत समस्याओं को हल करने की कोशिश करते हैं अन्यथा वे स्तर II के कृषि विशेषज्ञों को क्वेरी भेजेंगे। किसान SBI के 24/7 हेल्पलाइन नंबर पर भी कॉल कर सकते हैं जो 1800-11-2211 है या 1800 425 3800 में भी डायल कर सकते हैं अपने मुद्दों को सुलझाने के लिए।

किसानों के पास एक और टोल–फ्री नंबर 080 26599990 है। उनके पास इन सभी टोल–फ्री नंबरों की पहुँच या तो उनके मोबाइल फोन या लैंडलाइन के माध्यम से है।

राज्य नोडल अधिकारियों के संपर्क विवरण

StateEmail
Andaman and Nicobar Islandsdirpanch@gmail.com
Andhra Pradeshababu@ias.nic.in
Arunachal Pradeshagri-arn@gov.in
Assamagri-dept@nic.in
Bihardiragri-bih@nic.in
Chandigarhradhika1.official@gmail.com
Chhattisgarhhinanetam@gmail.com
Dadra and Nagar Havelidistrictpanchayat0003@gmail.com
Daman and Diuahvs-dmn-dd@nic.in
Delhijdagridelhi@gmail.com
Goadir-agri.goa@nic.in
Gujaratgssca80@gmail.com
Haryanaadswmhry@gmail.com
Himachal Pradeshdlr-hp@nic.in
Jammu and Kashmirmgopals1974@gmail.com
Jharkhandagrisoil123@gmail.com
Karnatakaagricommr.kar@nic.in
Keralaaddldirext.agri@kerala.gov.in
Lakshadweepgibrahimmcy@gmail.com
MadhyaPradeshanay.dwivedi@nic.in
Maharashtrapmkisan-mh@gov.in
Manipurpuiimcs@gmail.com
Meghalayaagri-meg@nic.nic
Mizoramagrimizoram@gmail.com
Nagalandagrilan-ngl@gov.in
Odishadiragri.or@nic.in
Puducherrydiragri.py@gov.in
Punjabagricultures58@gmail.com
Rajasthanreg.coop@rajasthan.gov.in
Sikkimdirector.agrisikkim@gmail.com
TamilNadudiragri@tn.nic.in
Telanganaagriculture.telangana@gmail.com
Tripurakrishibhawantripura@gmail.com
Uttar Pradeshdirag@nic.in
Uttarakhandboardofrevenue-uk@gov.in

Leave a Comment